Bete Saman Devar Se Chudwaya – Part 1

बेटे समान देवर से चुदवाया – भाग १

मेरी योनि के अन्दर घूमती उंगली ने मुझे मदहोश कर रखा था… स्स्स्स्सईई मेरी सिसकारी निकलने लगी… वो धीरे-धीरे उन्गली अन्दर बाहर कर रहा था… पर मैं इतनी मस्त हो गई थी कि ना तो एक उंगली से गुजारा हो रहा था और ना ही इतनी कम स्पीड में अब मज़ा आ रहा था….
आज इनको क्या हो गया ? इतनी देर से एक ही उंगली से करे जा रहे थे और वो भी इतनी धीरे-धीरे ….. मेरी कामुकता इतनी बढ़ गई थी कि मैंने अपने आप ही उनकी दो उंगलियां पकड़ कर अपनी चूत में घुसेड़ कर जोर-जोर से पेलने के लिये जैसे ही उनका हाथ पकड़ा …… मैं सन्न रह गई….यह तो बड़ा मुलायम सा हाथ था… मेरे पति का हाथ तो घने बालों से भरा पड़ा है……
तभी मेरा दिमाग झन्नाया…. Continue reading

Bhabhi Mujhse Chud Gayi

भाभी मुझसे चुद गयी

जब बच्चे यह भी नहीं जानते कि मुठ मारना क्या होता है, मैं तब से और आज तक मुठ मारता आ रहा हूँ। जिससे मेरा लंड भी टेढ़ा हो गया है, तो तुम अंदाजा लगा सकते हो कि मैं कितना गुंडा हूँ !
बात उस समय की है जब मेरी जवानी पूरे जोश पर थी मेरा वीर्य निकलना शुरू ही हुआ था और कोमल-कोमल झांट आई थी और चूत मारने का इतंना मन करता था कि बस चूत हो ! कैसे ही हो !
मेरे बड़े भाई की शादी हुई, बड़ी सुंदर भाभी आई, नाम है सुजाता, जिसके गोल-गोल चूचे, उठी हुई गांड है ! Continue reading

Bhabhi ko Garmi di

भाभी को गर्मी दी

मेरा नाम अनिल है, मैं आपके सामने अपनी पहली कहानी पेश करने जा रहा हूँ। सबसे पहले मैं गुरूजी का धन्यवाद करता हूँ जिन्होंने मेरी कहानी को समझा और अन्तर्वासना के माध्यम से आप लोगों तक पहुँचाया और उन फड़कती हुई चूतों को भी मेरा सलाम जो हमेशा किसी लण्ड की तलाश में रहती हैं। चूतें हमेशा चुदने के लिए होती हैं !

दोस्तो, बात उस वक्त की है जब मेरे बड़े भाई की नई-नई शादी हुई थी। जब मैंने पहली बार भाभी को देखा तो मैं उन्हें देखता ही रह गया। मेरी भाभी का फीगर 36-28-36 है। वो बहुत ज्यादा सैक्सी लगती हैं। लेकिन कुछ करने की हिम्मत नहीं हुई। सभी मेहमान शादी के एक-दो दिन तक सभी जा चुके थे। लेकिन मेरी चचेरी बहन नहीं गई थी।

भाभी और मैं आपस में बातें करने लगे। ऐसे ही एक महीना निकल गया। मैं नहीं जानता था कि भाभी भी मुझे पहले दिन से ही पसन्द करने लगी थी। यह भाभी ने मुझे बाद में बताया था।
Continue reading

Devar Bhabhi ki Chaah

देवर भाभी की चाह

बात दो साल पहिले की है जब मेरे पति को काम के सिलसिले में दिल्ली जाना पड़ गया था. उन्ही दिनों मेरा देवर छुट्टियों में घर आया हुआ था मेरा देवर अनिल आर्मी में था वह सुबह सुबह कसरत के लिए उठ जाता था. मैं उसका नाश्ता और खाना सुबह ही तैयार देती थी। अनिल सवेरे उठता तो कई बार मैं कम कपड़ो में सोती
थी, तब वह मुझे गौर से बोबे निहारता था। मुझे अस्तव्यस्त कपड़ों में अनिल का मुझे ऐसे निहारना रोमांचित कर देता था। वो तिरछी नजरों से मेरे स्तनों का रसपान करता था। पजामे से उसका लण्ड जोर मारता स्पष्ट दिखाई देता था।मेरे पति के जाने से मुझ को सेक्स करने की इच्छा सवार रहती थी पर कैसे अनिल से सेक्स करू मेरी समझ में नहीं आ रहा था एक दिन मैं अपने कमरे में जा कर लेटी थी। मन तो अनिल की तरफ भटक रहा था। और मेरे हाथ धीरे धीरे योनी को सहला रहे थे मेरा पेटीकोट भी ऊपर उठा हुआ थ। अचानक मुझे लगा को कोई मुझे देख रहा है है? मैंने तुरन्त नजरें घुमाई तो अनिल दरवाजे से झाकता नजर आ गया। मैंने तुरंत पेटीकोट नीचे कर लिया और उठ गई। Continue reading

Class me Sex ka Maza

क्लास मे सेक्स का मज़ा

बात उन दिनों की है जब मैं जबलपुर में इंजीनियरिंग कॉलेज का छात्र था। मैंने जबलपुर आने से पहले कभी मेरा किसी के साथ अफेयर नहीं था। मेरी क्लास में एक लड़की पर मेरा दिल आ गया था उसका नाम
अनामिका था. अनामिका भी क्या लड़की थी, उसके बड़े चूचे थे और गांड भी खूब भारी थी।हमारी अच्छी दोस्ती थी.एक दिन अनामिका ने मुझे बताया कि उसे कुछ फ्लावर पॉट खरीदना है। कॉलेज से मार्केट दूर था और मेरे पास बाइक थी। मुझे क्या था, क्लास ख़त्म होने के बाद अनामिका और मैं बाइक पर चल दिए। मैंने बाइक को काफी स्पीड से चला रहा था तो उसने मुझे कमर में कसकर पकड़ लिया. Continue reading