Category Archives: Bhabhi

Kirayedaarni Bhabhi ki Chudai

किरायेदारनी भाभी की चुदाई

हम देल्ही म रहते ह हमारे 2 घर ह एक मे हुमारी फॅमिली रहती ह ओर दूसरे मे हमारे किरायेदार जो की एक भैया ओर भाभी है भाभी एक दम बूम है उनका फिगर 36,28,38 ओर आगे 23 ह ओर रंग गोरा जो भी उन्हे देखे बस उससे चोदना चाहे भैया आर्मी मे है ओर वो यहा नया थे इसलिए उन्हे यहा का ज़यादा कुछ आता नही था उन्हे कोई भी काम होता तो वो हमे ही बोलते थे.

एक दिन भैया ने कहा राज कल अपनी भाभी को लाल किला घुमा लाओ मुझे टाइम नही मिलता मैने हाँ बोलदी, अगले दिन मै भाभी को बाइक पे ले गया उस दिन बारिश का मौसम था दिन म कई बार बारिश आई भाभी ने वाइट रंग का सूट पहेना हुआ था बारिश की वजे से उस मे से भाभी का समीज़ ओर पनटी दिख रही थी बाइक पे भाभी के बूब्स मेरी कमर पर कई बार टच हुआ मान तो ऐसा कर रहा था की इन्हे यही पकड़ लू.

जब हम लाल किला पहुचे हम सारे भीग चुके थे भेगने से भाभी बहुत सेक्सी लग रही थी हम वाहा घूमे ओर लंच किया मै वाहा पर भाभी से जान बुज़ कर बार बार टच हो जाता था कभी उनके हिप्स को टच करता कभी उनकी कमर को हम शाम को घर गये भैया रात को देर से आते ह 11 बजे क करीब मै भाभी को घर छोड़ कर जाने लेगा तो भाभी ने कहा चाय पी कर जाना हम सारे भेगे हुए थे भाभी इतनी सेक्सी लग रही थी की उन्हे अभी चोद दू.
Continue reading

Bhabhi ki Choot Chodi

भाभी की चूत चोदी

बात तब की है जब में स्कूल में पढ़ता था, आगे होगी यही कोई 18 साल तब तक मुझे इन सब चीज़ों का इतना पता नहीं था में हरयाणा के एक छोटे से गाँव का रहने वाला हूँ, नाम है समीर. कद 5’10? बॉडी से एकद्ूम मजबूत और फिट एक दिन मुझे किसी काम से अपने पड़ोस में जाना पड़ा जब में उनकी सीढ़ियाँ चढ़ता हुआ उपेर पहुँचा तो मेने उनको पुकारा पर कोई आवाज़ नहीं आई घर काफ़ी बड़ा था में अंदर चला गया के शायद अंदर कोई होगा.
अंदर गया तो देकहा के एक खिड़की से कुच्छ अजीब ही नज़ारा देखने को मिला कमरे में भाभी घोड़ी बनी हुई थी और उनका पति अपने 6? के लोले से उन्हे धीरे धीरे चोद रहा था ये दोपहर की बात है टाइम होगा कोई 1:30 का मेने ये काम पहली बार देकहा था में वाहा से चलने को हुआ पर मन किया एक बार और देख लूँ में खिड़की के पास खड़ा हो कर देखने लगा भाभी ही बहुत सुंदर हैं और उनका शरीर तो ऐसा है के देखने वाला एक मिनूट में पानी छ्चोड़ दे.
जब वो पानी लाने या किसी और काम से घर से बाहर निकलती हैं तो गली के सभी लड़के और आदमी उन्ही को देखते है उनकी विशेषता उनके चूतड़ हैं उनकी चुचिया नातो ज़्यादा मोटी हैं और नही ज़्यादा छोटी हाँ तो मेने देकहा के भीया ने लंड बाहर निकल लिया था और कुच्छ बोल रहे थे मेने ध्यान से सुना भाभी कह रही तीन (हरयान्वी में) माने आपको इतनी बार कह लिया आप सुन लिया करो कभी तो भैया बोले के नहीं वो मुझसे नहीं होगा और वो ग़लत भी है भाभी को गुस्सा आ गया बोली इसमें क्या ग़लत है में क्या किसी और से कह रहीं हूँ के अपना ये लोड्‍ा मेरे चूतदों में भी बाद दिया कर जब मेरा मान करता है गंद में लंड बड़वाने का तो में तो तेरे ते ए कहूँगी ना भैया को भी गुस्सा आ गया और उन्होने बिना पानी छ्चोड़े ही कपड़े पह्न लिए मुझे लगा अब मुझे कुच्छ आवाज़ करनी चाहिए ताकि उनको लगे की में अभी आया हूँ.
Continue reading

Devar ko Pataya

देवर को पटाया

पिछली गर्मियों की बात है जब मेरे पति की मौसी का लड़का किशन हमारे घर आया हुआ था, वो बहुत ही सीधा साधा और भोला सा है, उसकी उम्र करीब 19-20 की होगी, मगर उसका बदन ऐसा कि किसी भी औरत को आकर्षित कर ले, मगर वो ऐसा था कि लड़की को देख कर उनके सामने भी नहीं आता था। मगर मैं उस से चुदने के लिए तड़प रही थी और वो ऐसा बुद्धू था कि उसको मेरी जवानी दिख ही नहीं रही थी, मैं उसको अपनी गाण्ड हिला हिला कर दिखाती रहती मगर वो देख कर भी दूसरी और मुँह फेर लेता। जहाँ तक कि मैं वैसे भी उसके साथ बात करती तो वो शर्म से अपना मुँह छिपा रहा होता। मैं समझ चुकी थी कि यह शर्मीला लड़का कुछ नहीं करेगा, जो करना है मुझे ही करना है।
एक दिन मैं सुबह के वक्त मैं अपनी सास और ससुर को चाय देकर जब उसके कमरे में चाय लेकर गई तो वो सो रहा था मगर उसका बड़ा सा कड़क लौड़ा जाग रहा था, मेरा मतलब कि उसका लौड़ा पजामे के अन्दर खड़ा था और पजामे को टैंट बना रखा था। मेरा मन उसका लौड़ा देख कर बेहाल हो रहा था कि अचानक उसकी आँख खुल गई, वो अपने लौड़े को देख कर घबरा गया और झट से अपने ऊपर चादर लेकर अपने लौड़े को छुपा लिया। मैं चाय लेकर उसकी चारपाई पर ही बैठ गई और अपनी कमर उसकी टांगों से लगा दी. वो अपनी टाँगें दूर हटाने की कोशिश कर रहा था मगर मैं ऊपर उठ कर उसके पेट से अपनी गाण्ड लगा कर बैठ गई।उसकी परेशानी बढ़ती जा रही थी और शायद मेरे गरम बदन के छूने से उसका लौड़ा भी बड़ा हो रहा था जिसको वो चादर से छिपा रहा था।मैंने उसको कहा- किशन उठो और चाय पी लो !मगर वो उठता कैसे उसके पजामे में तो टैंट बना हुआ था, वो बोला- भाभी, चाय रख दो, मैं पी लूँगा।मैंने कहा- नहीं, पहले तुम उठो, फिर मैं जाऊँगी।
Continue reading

Bhabhi ne Saath Sula ke Chudvaya

भाभी ने साथ सुला के चुदवाया

हेल्लो दोस्तो ! मेरा नाम रमेश है और मैं मुंबई में रहता हूँ और ये कहानी मेरी और मेरी भाभी की सच्ची कहानी है।

मेरी भाभी का नाम शर्मिला है और वो एक मध्यम परिवार से है। घर पर सिर्फ़ हम पाँच लोग ही रहते हैं। मेरी भाभी का साइज़ ३६-२६-३६ है और वो एक दम सेक्सी है। मेरे भाई की शादी को ३ साल हुए थे और उन की कोई औलाद नहीं थी। इसी कारण मम्मी पापा मेरी शादी करना चाहते थे और उन्होंने एक लड़की भी देखी थी पर वो लड़की पसंद नहीं आई थी।

एक बार मेरे मम्मी और पापा को उनके एक रिश्तेदार की शादी में जाना था और उन्होंने मुझे भी चलने के लिए कहा तो मैंने मना कर दिया क्योंकि मुझे काम पर से छुट्टी नही मिल रही थी तो भाभी ने भी मना कर दिया क्योंकि घर पर मैं अकेला ही रह जाउंगा। वो लोग चले गए और भैया को भी उन के काम से शहर से बाहर जाना पड़ा था और वो ६ महीने के लिए शहर से बाहर गए थे। उस वक्त घर पर सिर्फ़ हम दोनों ही थे।

सब कुछ ठीक चल रहा था कि अचानक एक दिन मैं काम से छुट्टी ले कर घर आ गया था। जब मैं कम से घर आया तो मैंने दरवाज़ा खुला पाया। मैं अन्दर घुसा तो मैंने भाभी को आवाज़ नही लगाई और उन के कमरे में चला गया। मैंने देखा कि भाभी एक दम नंगी हैं और वो अपनी चूत और अपने बूब्स को दबा रही हैं और कुछ अजीब सी आवाज़ें निकाल रही हैं- आआआ आआआआआ आआआआआआआ आआऊऊऊऊऊऊऊ ऊऊऊऊऊऊ ऊऊऊ ऊऊऊओस्श्श्श्श्श्श्श्श्श्श् ऊऊऊऊ ऊऊऊऊऊ ऊऊऊऊऊ ऊऊऊऊऊऊऊऊओ !
Continue reading

Cyber Cafe Wali Bhabhi se Chudwaya

साइबर केफे वाली भाभी से चुदवाया

I am 24 year old. ये तब की बात ह जब म 18 साल का था . तो हम सब दोस्त टीयूशन से भाग करके उस केफे मे जाते ओर वहा जाके ब्लू फिल्म देखते . मैं तो रेगुलेर्ली जाता था . वहा जब भी मैं अकेला जाता मैं वहा जाके ब्लू फिल्म देखता ओर देखते देखते वहा मास्टरबेट करता मुझे बहुत मज़ा आता था . फिर एक दिन मैं वहा गया तो मैने वहा पर एक मस्त सी भाभी को बैठे देखा बिल्कुल गोरी चित्ति ओर फिगर भी जबरदस्त था मैं तो उसे ही देखता रहा ओर वहा उसके सामने खड़ा रहा . उसने मुझे देख कर बोला क 6 नो कॅबिन खाली ह तो मैं वहा चला गया ओर फिर से ब्लू फिल्न चलाई ओर अपने लंड को बाहर निकाला ओर उसे अपने थूक से गीला किया ओर लग गया काम पे एक घंटा पूरा होने वाला था तो मैं अपना काम करके निकल गया.
फिर वो भाभी डेली आने लगी वो केफे वाले की घर वाली थी . 2-3 दिन ऐसा ही चला . एक दिन मैं वहा गया तो कॅबिन में जाने से पहले भाभी ने मुझसे शरारती स्माइल क साथ कहा क गंदा मत करना रुमाल उसमे कर लेना प्लीज़्ज़ . मैं समझ गया क वो क्या कह र्ही थी . ज्ब मैने पीसी ओं किया ओर BF चलाई तो पता नही क्या हुआ पीसी हांग हो गया ओर ब्लू फिल्न स्क्रीन पे चल र्ही थी . ओर कंप्यूटर का मैं स्विच भी बाहर था तो मैं 10-15 मीं. तो चुप बैठा रहा पर फिर मैने उस भाभी को बुलाया . भाभी एक बार देखना प्लीज़ क्या हुआ ह . फिर वो आई ओर देख कर हसने लगी ओर बोली ये क्या कर र्हे थे तुम ये क्या देख र्हे हो ??? मै डर गया ओर बोला ये तो अपने आप ही चल गया . वो बोली क अपने आप तो पीसी ओं भी नही होता इतना कहते ही उसने पीसी को रिसटार्ट बटन से रिसटार्ट कर दिया. ओर एक स्माइल क साथ वहा से चली गई . फिर उस दिन मैं तो बस उसी क बारे में सोचता रहा वो क्यू हास रही थी .. यही सोचते सोचते टाइम हो गया ओर मैं वहा से चला गया ओर फिर 4-5 दिन वहा नही जा पाया फिर मैं गया तो वो केफे बंद था .वो केफे लगभग 2 से 3 महीने तक बंद रहा .
करीब 3 महीने बाद वो केफे खुला ओर मैं वहा गया तो मैने देखा क वही भाई बती थी ओर लाइट पिंक कलर का सूट डाला हुआ था वो बहुत सेक्सी लग र्ही थी .ओर उसका डीप नेक सूट मुझे उसकी क्लीवेज दिखा रहा था ओर मेरा लंड खड़ा हो गया उसने उसे नोटीस किया ओर मुझे 3 नो. कॅबिन दिया . मैं चला गया ओर मैने पीसी तक भीॉ ओं नही किया मैं तो उस भाभी क बारे में सोच सोच क ही मास्टरबेट कर रहा था . उस दिन तो मुझे बहुत मज़ा आया . अगले दिन कोई कॅबिन खाली नही था .ओर भाभी बोली क सॉरी आज तो कोई भी कॅबिन खाली नही ह . तो मैं बोला क मैं वेट कर लूँगा ओर मैं उसके सामने रखे सोफा पर बैठ गया . उसे देख कर मेरा लंड खड़ा हो रहा था ओर वो बाहर निकालने को उतावला हो रहा था पर मैं उसके सामने हाथ भी नही लगा पा रहा था अपने लंड को टच नही कर सकता था पर बहुत दर्द हो रहा था तो मैने उसकी नज़र हट ते ही अपना हाथ लंड पे लगे ओर उसे सेट किया पर उसने मुझे देख लिया ओर बोली कोई प्राब्लम ह क्या .
मैने नही नही तो … आपको ऐसा क्यू लगा . वो बोली नही तुम थोड़े टेन्षन में लग र्हे हो तो मैं बोला बिल्कुल नही भाभी. फिर बतो बतो में मुझे पता लगा क उनका नाम शालिनी ह ओर 3 माही ने पहले उसके पति की डेत हो गई थी . पता नही उसे क्या हुआ वो र्कडम से बोली ओह शीत यार आज तो केफे बंद करना ह मुझे . तो मैं बोला इट्स ओक मैं कल आज़ौंगा. तो वो बोली मुझे तुम्हारी थोड़ी सी हेल्प चाहिए . मैं बोला ओक ओर ये सुनते ही मेरा शैतानी दिमाग़ भाभी को वही चोदने की सोचने लगा. वो बोली क 2 पीसी मेरी कार में रखवादो प्लीज़ ओर मैने रखवा दिए .. फिर वो बोली क घर पे भी कोई नही ह मैं वहा कैसे निकालूंगी प्लीज़ तुम मेरे घर चल सकते हो तो म माना कैसे कर सकता था मैने एकदम से हा कर दी . ओर उसके साथ बैठ कर उसके घर पोोच गया . ओर 10 मीं की राइड क बाद उसके घर पहुच गए . घर काफ़ी अछा था . मैं अंदर गया तो वो बोली क मैं चाय बना लेती हू . वो चाय बनाने किचन में गई पर मैं तो उसकी गांद को ही देख रहा था क्या मस्त गोल गांद थी यार मेरा तो लंड बिल्कुल टाइट हो गया था .
वो चाय बना कर ले आई मेरे सामने रख दी ओर उसका सूट डीप नेक नही था पर मेरी नज़रें तो वही थी उसके चुचों को ढूँढ रही थी पर …. खैर चोरो अब हम दोनो बैठ कर चाय पीने लगे फिर वो मेरे पास आकर बैठ गई ओर एकदम से बोली क तुम हर रोज़ आते हो ओर वही चीज़ देखते हो बोर नही होते क्या ???? मैं बिल्कुल हैरान हो गया उसकी ये बात सुनकर ओर बोला मतलब क्या सेम चीज़??? वो बोली .. अरे वही मूवीस जो कंप्यूटर में हैं … अब बनो मत मुझे पता है तुम रोज़ आते हो ओर ब्लू फिल्न देखते हो … देखते हो ना .. उसके चेहरे पर एक अजीब सी शरारती स्माइल थी जिसे देख कर मैं समझ गया की ये कुछ करना चाहती है ..
तो मैने भी कहा क वो तो मैं पहले देखा करता था अब नही देखता … झूठ मत बोलो तुम रोज़ वही देखने आते हो .. वो बोली . अरे नही ग मैं तो आपको देखने आता हू .. ओर रोज़ आपको देख कर मेरा खड़ा हो जाता है … ओर मैं इतना बोल कर एकदम से चुप हो गया ओर मुँह नीचे कर लिया .. फिर वो बोली क्या खड़ा हो जाता है तुम्हारा मुझे भी तो दिखाओ .. मैने कहा क्या दिखौ/?? वो बोली जो तुम्हारा अभी भी खड़ा है ओर बाहर निकालने को तरस रहा है . ओर मैं सोफे क साथ कमर लगा कर बैठ गया ओर बोला क मैं तो इसे निकल निकल कर तक गया हू आज आप ही निकल लो इसे … फिर क्या था उसने अपना कप मेज़ पर र्खा ओर मेरे जांघों को सहलाने लगी ओर एकदम से मेरे लंड को पकड़ लिया बहुत ज़ोर से ओर दूसरे हाथ से मेरे टॅटन को ओर बोली आज मैं निकलती हू इसकी सारी गर्मी बहुत उछालता है ना ये .. ओर मैं दर्द के मारे उछाल पड़ा ओर बोला अरे प्यार से पाकड़ो वरना मेरी तो जान ही निकल जाएगी .. वो बोली सेयेल तो आज तुझे मार ही डालती हू इतना कहके उसने ओर ज़ूर से मेरा लोड्‍ा पकड़ लिया ओर मैं चीख पड़ा … वो बोली हरामखोर चिल्ला आज तुझे जन्नत ओर नर्क दोनो एक साथ दिखौँगी मैं .
फिर उसने मेरे लंड को चोर दिया ओर मेरी पेंट को खोल कर अंडरवेर समेत निकल कर फेंक दिया ओर मेरे लंड को देखते ही पकड़ लिया ओर बोली अरे वाह मस्त लंड है रे तेरा तो … तू तो छोटा पॅकेट बड़ा धमाका निकला रे . ओर इतना कह कर उसने मेरा लंड अपने मूह में ले लिया ओर ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी .. पूरा का पूरा लंड हर झटके में मुँह में डाल रही थी ओर मेरा लंड उसके हलाक तक जा रहा था पर उसे तो मज़ा आरहा था . आना ही था क्यूकी उस भूखी कुटिया को इतने टाइम बाद लंड जो दिखा था ..
फिर मैं भी मस्त हो गया ओर उसे गालिया देने लगा .. साली रंडी चूस डाल इस लोड को निकल ले आज सारा का सारा रस इसका ओर मैं भी उसका सिर पकड़ पकड़ कर उसका मुँह चोदने लगा लगभग 10 मिंट बाद मैने उसे बिना बताए अपना सारा माल उसके मुँह में छोड़ दिया जिसे वो बिना हिक किचाए गतक गई ओर बोली चल भाड़वे अब मेरी चूत चाट .. मैं तो कब से यही चाहता था .. ओर अब उसने मैने उसकी सलवार का नारा खोला ओर सलवार को निकल फेका मैं देख कर हिरण था क नीचे पेंटी नही थी ओर उसने टांगे फैला कर अपनी लाल मखमली चिकनी चूत को मेरे सामने खोल दिया ओर बोली आजा मेरे राजा ओर मैं तो बस चिपक गया उसकी चूत से ओर अपनी जीभ से चाटने लगा उसकी चूत को ..
अपनी जीभ से उसकी चूत को चोदने लगा ओर एक उंगली उसकी गांद में डाल दी फिर दो ओर फिर 3 ओर फिर मैं उसकी गांद को अपनी चारों उंगलियों से ओर उसकी चूत को अपनी जीभ से चोद रहा था तभी अचानक उसने अपनी टाँगो से मेरे मुँह को जाकड़ लिया ओर उसकी चूत से रस निकालने लगा जिसे मैं चटकारे लगा लगा कर पी गया .. क्या मस्त स्वाद था यार उसके रस का मज़ा आगया ज़िंदगी में पहली बार चूत का रस पिया था मैने मज़ा आगया था .. ओर फिर उसने मेरे हाथ की उंगलियाँ चाटनी शुरू कर दी जो उसकी गांद में थी ओर फिर मैं बोला अब नाग देवता को अपने बिल में भी घुसने दो . तो वो बोली तो माना किसने किया है .. मेरा लंड उसकी चूत में जाने को बिल्कुल तैयार था . लेकिन उससे पहले मैने उसे बिल्कुल नंगी कर दिया ओर 1 मिनूट तक उसे देखता रहा ओर फिर उसके मॅमन को चूसने लगा भोखे शेर की त्राह जैसे बरसो बाद किसी ने माँस का टुकरा खिलाया हो ओर मैं बुरी तरह उसके मॅमन को चूस रहा था ओर वो मज़े ओर दर्द से सिसकियाँ भर रही थी ओर बोली क अब ओर मत तडपा मेरे राजा बहुत तड़पी हू मैं चोद डाल मुझे ओर मैने अपना वर्जिन लंड उसकी चूत क मुँह पे रखा जो की पहले से ही गीली थी इसलिए मैने बिना कुछ लगाए ही उसकी चूत में अपना लंड घुसा दिया ओर बस एक ही झटका काफ़ी था उसकी चूत की गहराई तक जाने क लए ..
मेरा पूरा लंड एक ही झटके में उसके अंदर था ओर वो चीख पड़ी मदारचोड़ फाड़ दी मेरी चूत तूने ओर मैने उसके होतो पे अपने होत रख दिए ओर ज़ोर ज़ोर से उसे जोड़ने लगा पूरी स्पीड से उसे चोद रहा था मैं ओर वो ओर तेज़ ओर तेज़ कह र्ही थी मैं कभी उसके बूब्स को तो कभी लिप्स को चूस रा था ओर 10-12 मिंट बाद मेरे लंड ने सिग्नल दे दिया क अब बस ओर नही ओर मेरे लंड ने हार मानते हुए अपना सारा माल उसके अंदर छोड़ दिया ओर मैं उसके उपर लेट गया पर मेरा लंड अभी भी ताना हुआ था .. तो वो बोली अरे वा लंड देवता तो ओर भी खेलना चाहते हैं तो लंड को बिना बाहर निकले वो मेरे उपर आगाई ओर मेरे लंड पर उछालना शुरू कर दिया … उसके मॅमन को उछालता देख कर मैं भी जोश से भर गया ओर उसे कमर से पकड़ कर चोदने लगा ओर दोनो को दोनो पसीने से जैसे नहा लिए हो पर कोई भी रुकना नही चाहता था ओर फिर 15-16 मिनूट बाद फिर से मेरे लंड ने अपना सारा पानी उसकी चूत में छोड़ दिया अहह …
हम दोनो बुरी तरह तक चुके थे इसलिए वो मेरे उपर गिर गई ओर कुछ देर ऐसे ही रहे मेरा लंड उसकी चूत में ही था … लगभग 10 मिंट बाद भाभी बोली अरे तक तो नही गया ना तू ???? मैने कहा नही भाभी अभी तो नही ..वो बोली हन सही है क्यूकी आज तेरे वर्जिन लंड से मैं अपनी वर्जिन गांद को भी चुदवाउँगी ..तभी मैने भाभी क होतो को चूसना शुरू कर दिया ओर भाभी ने लंड को चूत से बाहर निकाला ओर हाथ से सहलाना शुरू किया ओर फिर से उसे तैयार करने क लए उसे चूसने लगी ओर मेरी गांद भी चाटने लगी ओर फिर मेरी गांद ओर लोड को चूस चूस कर लोड को टाइट होने पर मजबूर कर दिया …. ओर फिर बोली आजा मेरे कुत्ते मुझे कुटिया बना कर चोद डाल .. ओर इतना कह कर वो कुटिया की तरह झुक गई ओर मैने भाभी की गांद को अपने थूक से गीला किया ओर भाभी क बाल पकड़ क्र ज़ोर से पीछे खींचा ओर उसके होतो को किस करते हुए बोला ले हरमज़ड़ी आज तेरी गांद को भी फाड़ देता हू मैं . तो वो बोली फाड़ दे मदारचोड़ आज इसे भी ….
ओर फिर मैने उसकी गांद में अपना लंड डालना शुरू कर दिया ओर धीरे धीरे पूरा लंड उसकी गांद में डाल दिया .. ओर वो दर्द क मारे मुझे गलिया दे र्ही बहन के लौरे फाड़ दी मेरी गांद तूने मदारचोड़ फाड़ दे इस छोटे से छेड़ को बड़ा कर दे सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स ह्ाआसस्स ओर फिर मेने उसकी गांद पर थप्पड़ मारना शुरू कर दिया ओर साथ ही उसे चोदना भी .. उसकी गांद को मैं अब फुल स्पीड से चोद रहा था ओर साथ ही ज़ोर ज़ोर से थप्पड़ मार रहा था .. मेरी उंगलियों क निशान उसकी गांद पास छाप गए थे ..
ये ले कुटिया देख तेरी गांद पे मैने अपने निशान चोर दिए हैं अब ये सिर्फ़ मेरी है .. वो दर्द क मारे चादर को मुँह में डाले हुए थी ओर निकल कर बोली मदारचोड़ ओर तेज़ चोद मेरी गांद को ओर मैने उसके बालो को छोड़ कर उसकी कमर को दोनो हाथो से पकड़ा ओर पूरी स्पीड में उसे चोदने लगा ओर इस बार मैने उसे 20 मिंट तक ऐसे ही चोदा ओर फिर अपना पानी उसके अंदर छोड़ दिया ओर ओर उसके उपर गिर गया … ओर हम दोनो सो गए फिर हम शाम को उठे ओर फिर हम दोनो एक साथ नहाने के लिए चल पड़े . भाभी ने पहली बार गांद मरवाई थी इसलिए उसे चलने में दिक्कत आराही थी फिर मैने उसे सहारा दिया ओर बातरूम में ले गया..ओर नहाते हुए उसने एक बार ओर मेरे लंड को अपने मॅमन क बीच रख कर खूब रग्रा ओर एक बार फिर से मेरे लंड का पानी अपने मॅमन क उपर चुरवाया .. ओर फिर हम नहा लिए ओर वो मुझे कार में घर तक चॉर्ने आई ओर फिर मैं रोज़ केफे बंद होने क बाद उसे छोड़ता ओर घर चला आता ओर 2 साल बाद उसकी शादी हो गई दोबारा ओर फिर वो अपने पति क साथ कॅनडा चली गई … पर उसके साथ बिताए हुए 2 साल मेरी ज़िंदगी क सबसे हसीन साल थे …
ये थी मेरी पहली कहानी इस तरह मेरे लंड ने पहली बार चूत का स्वाद चखा . आयेज ओर भी कहानियाँ लिखूंगा लेकिन पहले मेरी इस कहानी को पढ़िए ओर जिसे मेरी कहानी पसंद आई हो वो मुझे मैल करें ओर लरकियाँ ज़रूर करें ..