Category Archives: देवर भाभी

Bhabhi ki Roz Chudai

भाभी की रोज़ चुदाई

दोस्तो मेरा नाम संजीव है ओर इस टाइम मेरी आगे 40 है. मई आप को अपनी जिंदगी की कुकछ रियल स्टोरी बता रहा हू ये सब एक दूं सॅकी है, ये बात लगभग जब की है जब मेरी आगे 18 एअर की थी .मेरे भाई की मॅरेज हुई .मई आप को अपने बारे मई बता रहा हू मेरा रंग गोरा है मेरी हिगत 5.11” है.बड़े भाई की सॅडी मई छोटा भाई बहुत खुश होता है मई भी होया की मेरी भाभी आयगी .सॅडी हो कर भाभी घर आ गयी ‘मेरी भाभी बहुत ही सनडर थी एक दूं गौरी ओर चिकनी थी.उस के साइज़ 34/28/30 था.मेरे भाई का रंग तोड़ा सवला है.मेरे घर मेरे सात मेरी मम्मी ओर भाई ही रहते थे.ओर फर्स्ट फ्लोर पर दोसरा भाई अपनी बीवी यानी मेरी बड़ी भाभी के सात रहता था. अब मई अपनी स्टोरी पर आता हू भाई की सॅडी के बाद घर का कम भाभी करने लगी मई मॉर्निंग मई स्कूल जाता ओर दिन मई स्कूल से ही भाई के पास ऑफीस चेला जाता था.छोटी भाभी जब से घर मई आई थी मई उस को प्यासी नज़रो से देखता था.मेरा रूम मेरे भाई के रूम के सात ही लगा हुआ था.नाइट मई वो जब सेक्स करते थे तो उन की आवाज़ मेरे को सुनाई देती थी .ओर मई दीवार से एअर लगा कर कुकछ ज़्यादा ही ध्यान से सुनता था.अब मेरे को रात को नींद मई भाभी के सपने आने लगे.मई अपने बारे मई आप को बता दो की मई गर्ल्स को पाटने मई माहिर था.भाभी को घर मई आए हुए 15 दिन हो चुके थे.मई उन से खूब हसी मज़ाक करने लगा ओर बीच बीच मई कोई नों वेग जोक भी बोल्ड देता था.वो सिर्फ़ मुस्करत देती थी.मेरे को लगने लगा था की अगेर मई कुकछ करो तो शायद गड़बड़ नही होगी. मई सॅडी के लगभग 20-22 दीनो के बाद विस्वास मई हो गया की भाभी मान जयगी.एक दिन मई स्कूल से सीधा घर आ गया ओर घर से भाई को फोन कर दिया की मेरी तबीयत कुकछ ठीक नही है.मई घर पर लगभग 1 बजे आया था.उस समय मम्मी बाहर वेल रूम मई ओर भाभी अपने रूम मई सो रहे थे. मेरे आने से मम्मी जाग गयी ओर भाभी अपने रूम मई ही सोती रही.मैने खाना खाया ओर मम्मी से कहा मई सोने जर आहा हू.मई अपने रूम मई सोने चेला गया.मई 3 बजे सो कर उठा तब तक भाभी भी अपने रूम से बाहर आ चुकी थी. भाभी ने पुकछ की आप को क्या हुआ है तू मैने कहा की इससे ही पेट मई दर्द हो रहा है.मम्मी कुकछ मई मंदिर चेली गयी ये उन का डेली राउटिंग था 3.30 पर मंदिर जाना वाहा से 6.00 बजे मिल्क वेल के जाना ओर 6.30 तो 7.00 बजे तक घर आना क्यू की हम सीधा डेरी से मिल्क लाते थे तो कभी दर्र हो जाती थी.मेरी बड़ी भाभी अपने बाकचू मई ही मस्त रहती थी नीचे बहुत कम आती थी .मम्मी के जाने के बाद मैने सुकचा आज कुकछ ट्राइ किया जाए मैने भाभी को कहा की कोई मोविए देखे तो उस ने माना कर दिया मैने कहा चेलो पलइनग कार्ड खेलते है. वो मान गयी हम कार्ड प्ले करने लगे तो कार्ड मई बेग्ौम पर गुलाम आ गया मैने कहा की मई आप पर आ गया तो वो मुस्करा दी.अब मई क्लियर था मैने झट से एक किस कर ली वो बोली क्या कर रहे हो मैने कहा देवेर का तो हाक़ुए होता है ओर मई तो आप का गुलाम हू.वो बहुत ज़ोर से हसी.मैने कहा हम आप के बेडरूम मई कार्ड प्ले करते है क्यूकी यहा पर गर्मी है ओर आप के रूम मई आ.सी है हम वाहा चेलए गये.वाहा पर पर्फ्यूम के महक आ रही थी मैने पुचछा आप कौन सा पर्फ्यूम उसे करती हो वो बोली आप के भीया जयदा उसे करते है. मई कहा ज़रा देखो.मई उन के आल्मिरा खोल ली वाहा पर भाभी के निघट्य टाँगे हुए थे. ओर उन के ब्रा आंड पनटी भी रखे हुए थे मई उन को देखने लगा तो वो समाज गयी की मई क्या देख रहा हू वो आल्मिरा बंद करने लगी तो मैने उन की ब्रा उठा ली ओर पुकचा ये बहुत सेक्सी है.प्ल्ज़ आप मुझे ये पहें के दिखा दो पर वो नही मानी,मैने झट से उन को पकड़ लिया अपनी बाहो मई ओर उन के लिप्स पर अपने लिप्स रख दिए वो मेरे से आज़ाद होने की कोशिश करने लगी पर मई उन के लिप्स को बहुत ज़ोर से चूसने लगा अब वो गरम हो रही थी मैने झट से उन की बेड पर लिटा दिया .वो माना करने लगी. मैने कहा मई कुकछ नही करूगा सिर्फ़ किस ही करोगा वो मान गयी.ओर मई उन को स्मूछिंग करने लगा ओर वो भी मेरा सात देने लगी मेरा लंड एकदुं अपनी पॅशन पर आ गया था मई उन को लिटा कर किस कर रहा था अब मेरे को लग रहा था की वो गरम हो रहै है मून के अप्पर आ गया वो बोली क्या कर रहे हू मैने कुकछ नही सिर्फ़ किस ही कर रहा हू अब मेरा लंड जो पूरी तरह से टन कर पूरा 8” का हू चक्का था वो भाभी को चब रहा था ओर वो अब पूरी तरह से गरम हो चुकी थी ओर बार बार कराह रही थी मैने अपने पारो से उन की सारी अप्पर कर दी उस की मक्मल जैसे टाँगे अब मेरे पारो पर लग रही थी मैने अब अपनी हाफ पैंट नएचए कर दी वो बहुत गरम हू चुकी थी मैने झट से अपने अंडरवेर भी उतार दी अब मेरा लंड उन की तंगो से टकरा रहा था अब मई नएचए हो गया ओर भाभी के पारो पर किस करने लगा अब वो अपने बूब्स को मसालने लगी ओर बोली अब नही सहा जेया रहा.मैने झट से उन की पनटी उतार दी ओर अपना लंड उन की छूट के पास लगाने लगा. अब वो पागल हो रही थी.मैने उस का ब्लाउस खोल दिया ओर अपनी त.शर्ट भी उतार दी.फिर मई उन के ब्रा भी खुल दी जैसे ही मैने ब्रा खुली मई पागल हो गया क्यूकी आज तक इससे गुलाबी निप्पल मैने ब्लू फिल्म मई भी नही देखे थे अब मई बिल्कुल नंगा था ओर मई अब बूब्स को बहुत ज़ोर से सक करने लगा.तो वो बोली मई पागल हो रही हू मेरे को छूट मई अपना लंड डालो.मैने जैसे ही उन की चोट पर अपना लंड तोड़ा सा डाला वो दर्द से चीख पड़ी बोली बहुत मोटा है.अब तक उस का पानी चोट चक्का था.पानी के वजह से मेरा लंड उन की छूट मई ओर अंडर जा रहा था मैं एक ज़ोर का झटका मारा तो मेरा लंड लगभग5” अंडर चला गया मैने अब उन के लिप्स पर अपने लिप्स रख दिया थे जिस से आवाज़ बाहर ना जाए अब वो मेरे लंड से दर्र रही थी मैने अब कुकछ नही सुकचा ओर जाओर जाओर से झेतके मरने लगा अब मेरा पूरा लंड उन की छूट मई जा चक्का था ओर वो दर्द से परेशन हो रही थी ओर मई अब मज़्ज़ा ले रहा था मेरे को छोड़ते हुए 10 मीं हो चुके थे अब उस ने फिर पानी छोड़ दिया. अब उस को पूरा मज़्ज़ा आने लगा था अब उस ने कहा की मेरे को सक करना है उस ने अपनी सारी ओर पेटिकोट उतार दिया था हम अब दोनो पूरे नंगे थे मैने अब पहली बार अपनी भाभी को नंगा देखा तो मई पागल हो गया क्या जिस्म था एक दूं मखमल की तरह इसा लग रहा था जैसे क़िस्सी कारीगर ने फ़ुर्सत से बाँया हो भाभी को देख कर मेरे को मधुरी डिक्सिट ओर श्री देवी सब बेकार लग रही थी इसा लग रहा था जैसे अप्पर से कोई अप्सरा उतार की आ गयी हो . अब वो बेड पर बेत गयी ओर मुझे लिटा दिया ओर मेरे लंड को अपने मूह से चाटने लगी ओर बोली अगेर मेरे को पता होता की टुमारा लंड इतना जबरदस्त है तो मई सॅडी के 2 दिन बाद ही तुम से छोड़वा लेती. वो बुरी तरह से लंड को छत रही थी मई उन के मुमे मसल रहा था .अब वो सक करने लगी वो बहुत ज़ोर से सक कर रही थी मेरे को लगा पानी आने वाला है मैने कहा तो बोली आने दो मेरा पानी चौत गया वो पूरा पानी पी गयी ओर सक करती रही.मेरा लंड फिर से मोशन मई आने लगा था.वो सक किए जा रही थी.मेरा हाथ उन की चोट पर जा चक्का था अब मई उन की चोट मई अपनी उंगली दल रहा था ओर एक हाट से मुमे मसल रहा था . अब मैने उन को अप्पर से किस करने लगा मैने अप्पर से नीचे तक चूमना सुरू कर दिया.मेरे को इसा लग रहा था जैसे मेरा मु किसी मलाई पर चेल रहा है मई खोर किस्सस करता रहा भाभी वॉली अब मेरे पर तृप्त कर दो अपना लंड मेरी छूट मई डॉल दो मैने अब अपना लंड पूरे ज़ोर के झटका मारा वो छीची मार दिया मेरे को 2 मीं बाद वो पूरा मज़्ज़ा देने लगी ओर अपने हिप्पस को उठा कर मेरा सात देनी लगी लगभग 25 मीं बाद मेरा पानी निकलने वाला हुआ मैने कहा तो वो बोली अंदर करो मेरा गरम गरम पानी जब उस की चोट मई गया तो वो मस्त हो गयी.अब मेरी मम्मी के आने का टाइम हू चक्का था हम ने अनपे क्लॉत पहें लिए .इस के बाद हमारा बहुत बार प्रोग्राम बना उस को अगली बार बताओगा

Bhabhi ko seduce kiya

मेरे प्यारे चोदु दोस्तो आशीष का नमस्कार. मे आपको आज एक सच्ची कहानी सुनाने जा रहा हू. बात उन दीनो की है जब मे बारहवी की परीक्षा पास कर के दिल्ली के एक कॉलेज मे अड्मिशन लिया था. मे अपने एक कज़िन के साथ रहता था देल्ही मे. मेरी भाभी उन दीनो ३२-३३ की रही होंगी. वो देखने मे तो बहुत सुंदर नही थी पर उनकी गॅंड और चूची देख के किसी का भी लॅंड खड़ा हो जाए. वो बहुत हे फ्री नेचर की थी. कभी बिना ब्रा की ट्रॅन्स्परेंट ब्लाउस पहनती थी तो कभी मेरे लंड या गॅंड को छूटी थी जैसेआंजाने मे चू गया हो. मे भी किसी ना किसी बहाने से उनको छूने की कोशिश करता रहता था . वो भी कभी कभी मुझे अपने पैर दबाने को बुलाती थी पर कभी जाँघो से उपर नही जाने देती थि. एक दिन मै एग्ज़ॅम के बाद अपने घर मधुबनी जाने की तैयारी कर रहा था और भैया काम से कही बाहर गये थे. बच्चे दूसरे कमरे मे खेल रहे थे (उनके २ बच्चे थे) . मेरा मान भाभी के पास बैठने को कर रहा था. वो अपने रूम मे लेटी हुई थी. मै उनके बगल मे बैठ गया. बाते गर्लफ्रेंड पर चली गयी और हम दोनो थोड़ा उत्तेजित हो रहे थे. मै धीरे से उठा और बच्चो का कमरा बाहर से लॉक कर दिया जिससे बच्चो को कुछ पता ना चले. जब मै खड़ा हो रहा था तो भाभी ने मेरा लॅंड खड़ा देख लिया था. जब मै वापिस आ के बैठा तो वो बोली देखो आशीष मेरी बाह की स्किन कितनी स्मूथ है. मैने थोड़ा सहलाया और फिर उनकी गॅंड पर हाथ मार के बोला की ये ज़्यादा स्मूथ है, मेरी भी फॅट रही थी पर मुझे लगा अभी नही तो कभी नही और फिर मैने उनके दूद्धू पकड़ लिया और बोलाकी सबसे ज़्यादा स्मूथ ये है. वो मुस्कुराइ और बोली की तुम्हारे पास भी कुछ है मेरे लायक और उन्होने मेरा लॅंड पकड़ लिया. मै खड़ा हुआ और ज़िप खोल के बोला की देख लीजिए. उन्हो ने पालक झपकते ही मेरा लंड अपने मूह मे ले लिए. करीब ५ मिनिट की चुसाई के बाद मै उनके मूह मे झड गया. जब मै उनकी साड़ी उठाने लगा तो उन्होने बोला अभी नही रात मे जब सब सो जाएँगे तो मै मिलूंगी तुम्हारे रूम मे. अब तुम जाओ और टिकेट कॅन्सल करा दो. मै उठा और धीरे से बच्चो का रूम खोल दिया और ऐसे टीवी देखने लगा जैसे कुछ हुआ ही नही.

शाम को मई टिकेट कॅन्सल करा के आया और डिन्नर कर के अपने रूम मे चला गया. रात मे १ बजे जब मुझे लगने लगा की लगता है उनका मूड बदल गया तभी मेरे रूम का दरवाजा खुला और लाल रंग की नाइटी मे अप्सरा सी भाभी आई और मेरे बगल मे लेट गयी. मैने धीरे से उनकी नाइटी मे हाथ डाला और उनके बूब्स सहलाने लगा. दोनो गरम थे और इंतेज़ार नही हो रहा था. भाभी ने बोला कपड़े उतारो. मै बोला किसके? वो मुस्काराई और बोली मेरे राजा जिसकेचाहो उसके. मैने बिना देर किए पहले अपने उतारे और उनके खीचने लगा. वो बोली धीरे से फॅट जाएगी और खड़ी हो गयी और खुद हे उतार दी. अब हम दोनो नंगे खड़े थे. मैने उन्हे गले लगाया और धीरे धीरे उनके लिप्स चूचने लगा. वो मेरा लंड सहला रही थी. मै इतना उत्तेजित था की जल्दी से उनके हाथ मे हे झड गया. वो मुस्कुराइ और घुटनो पर बैठ के मेरा चूसने लगी. जल्दी ही मेरा फिर खड़ा हो गया. वो बोली अब इंतेज़ार नही होता जल्दी से डाल दो और लेट गयी. मैने भी बिना देर किए उनके अप्पर लेट गया और उनकी बुर के मूह पर अपना लंड रख दिया. मै भी नया था और मुझसे हो नही रहा था. उन्हो ने मेरा लंड अपने हाथ से पकड़ा और निशाने पर रख के बोली अब धक्का मार. मैने एक धक्का मारा तो लंड चूत की गहराइयों मे उतार गया. मै सातवे आसमान पर था. करीब १० मिनिट की चुदाई के बाद मैने कहा मै झड़ने वाला हू उन्होने बोला अंदर ही निकाल दो मैने दवा खा रखी है. उस रात हुमने ३ बार चुदाई की. उसके बाद अगले २ साल तक जब भी भैया बाहर जाते हम चुदाई मे जुट जाते.

एक बार मैने भाभी को उनकी ननद के साथ लेज़्बीयन सेक्स करते देखा और मै उसका हिस्सा कैसे बना, हमारे थ्रीसम की कहानी अगली बार. तब तक के लिए मौके तलाशते रहे. गुड लक फॉर युवर अटेंप्ट्स.